why does Hanuman like sindoor(हनुमान जी को सिंदूर क्यों पसंद है)

    
हनुमान जी को सिंदूर क्यों पसंद है और क्या है इसके पीछे की स्टोरी

हनुमान जी को कलयुग का सबसे प्रभावशाली गॉड माना जाता है ऐसा माना जाता है की जहा पर भी सुन्दर कांड, रामायण और रामचरित मानस की कथा सुनाई जाती है वह स्वम हनुमान जी प्रकट होते है । हनुमान जी के बारे में हमारे धर्म शास्त्रों में बहुत कुछ लिखा है, उन्ही में से एक स्टोरी की हम यहाँ चर्चा करेंगे| आपने देखा होगा अधिकतर हनुमान जी स्टेचू को सिन्दूर से लेप किया जाता है।

हनुमान जी को सिंदूर क्यों पसंद है और क्या है इसके पीछे की स्टोरी

शास्त्रों के अनुशार जब रावण को मारकर भगवान् राम, माता सीता और लक्ष्मण वापस अयोध्या लोट रहे थे, तब हनुमान ने भी उनके साथ अयोध्या जाने की हट की। राम के बहुत समझने के बावजूद हनुमान जी  अपनी जिद पर अडिग रहे और अपना जीवन श्री राम को खुश करने में समर्पित करने का प्रयास करते थे।

एक बार उन्होंनें सीता माता को मांग में सिंदूर लगाते हुए देखा। उत्सुकतावश हनुमान ने माता सीता से इसका कारण पूछ लिया। सीता माता ने कहा की प्रभु राम को प्रसन्न करने के लिए वह सिंदूर लगाती हैं। हनुमान जी को श्री राम को प्रसन्न करने  का ये तरीका बहुत पसंद आया। फिर क्या था, हनुमान जी ने फटाफट अपने शरीर पर सिंदूर का लैप किया और पहुँच गए भगवान् श्री राम के सामने।

श्री राम हनुमान के इस रूप को देखकर आश्चर्यचकित हो गए। उन्होंने हनुमान से इस स्वरुप का  कारण पूछा। हनुमान जी ने श्री राम से कहा कि प्रभु ये सब मैंने आपको प्रसन्न करने के लिए किया है। सिंदूर लगाने की वजह से ही आप माता सीता से बहुत प्रसन्न रहते हो। अब आप मुझसे भी उतने ही प्रसन्न रहना। भक्त हनुमान की ये बाते सुन श्री राम को बहुत हंसी आई। और सचमुच हनुमान के लिए श्री राम के मन में जगह और गहरी हो गई।