बौद्ध धर्म में ‘त्रिरत्न’ का क्या अभिप्राय है?

    

(A) त्रिपिटक
(B) बुद्ध, धम्म, संघ
(C) शील, समाधि, संघ
(D) सत्य, अहिंसा, करुणा

सही उत्तर : बुद्ध, धम्म, संघ

व्याख्या

बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध थे। बौद्ध धर्म के बारे में हमें विशद ज्ञान त्रिपिटक से प्राप्त होता है। बौद्ध धर्म मूलत: अनीश्वरवादी है। इसमें आत्मा की परिकल्पना भी नहीं है। बौद्ध धर्म के त्रिरत्न है–बुद्ध, धम्म एवं संघ।